Continue Reading
Posted in कविता व्यंग्य हिन्दी दिवस हिन्दी साहित्य मंच

भ्रष्टाचार

यहा हर तरफ है बिछा हुआ भ्रष्टाचार ! हर तरफ फैला है काला बाजार !! राजा करते है स्पेक्ट्रम घोटाला…