Posted in Uncategorized

आधे घंटे में प्यार..!

फोन पर मैसेज आया, “तुझे कभी आठ घंटों में प्यार हुआ है?” प्रिया समझ गई फैसल को फिर किसी से…

Posted in Uncategorized

बेनूर चाँद {गजल} सन्तोष कुमार “प्यासा”

एक दर्द में फिर डूबी शमा, फिर चाँद हुआ बेनूरबिखरा दिल, टीसती यादें तेरी भला क्यूँ हुए तुम दूरकरूँ वक़्त…

Posted in Uncategorized

हिंगलिश दोहे……………….श्यामल सुमन

LIFE MISERABLE हुई, INCREASING है RATE।GODOWN में GRAIN है, PEOPLE EMPTY पेट।। JOURNEY हो जब TRAIN से, FEAR होता साथ।होगा…

Posted in Uncategorized

जीवन इक विश्वास है………….श्यामल सुमन

जीवन इक विश्वास है खुला हुआ आकाश है वक्त आजतक उसने जीताजिसने किया प्रयास है कैसे कैसे लोग जगत मेंअलग…

Posted in Uncategorized

जो वो आ जाए एक बार ***** {कविता} ***** सन्तोष कुमार “प्यासा”

इस कविता को मैंने “महादेवी वर्मा” की कविता “जो तुम आ जाते एक बार” से, प्रेरित होकर लिखा है *******************************…

Posted in Uncategorized

निश्छल मन होते जहाँ—–(दोहा)–श्यामल सुमन—

सुमन प्रेम को जानकर बहुत दिनों से मौन।प्रियतम जहाँ करीब हो भला रहे चुप कौन।। प्रेम से बाहर कुछ नहीं…

Posted in Uncategorized

क्षणिकाएं——–(वीनस)

निपटा जल्दी जल्दीदुनियाभर के किस्सेघर- काम की बातेंखिड़की की देहलीज़ पररोज़ हाल ए दिल कहते सुनते हैंमैं और चाँद !***********…

Posted in Uncategorized

पुरस्कार——-(लघुकथा)———-निर्मला कपिला

राजा– देखो कैसा जमाना आ गया है सिफारिश से आज कल साहित्य सम्मान मिलते हैं। शाम — वो कैसे? हमारे…